आपका राहें पर स्वागत है

माता का भजन "कैसे बताऊँ शब्दों में मैं "




कैसे बताऊँ शब्दों में मैं तेरी मेहरबानियाँ
कण-कण में तू ही तो बसती  माता शेरावालिया

हर एक रूप में बहुत ही जचती माता शेरावालिया
हर एक रूप में बहुत ही जचती माता शेरावालिया

हो शेरावालिया  पहाड़ावालिया
हो भर दे झोलियाँ जो दिखती खालियाँ
कैसे बताऊँ शब्दों में मैं तेरी मेहरबानियाँ

औरों को तो महल दे दिए
पर खुद रहती पर्वत पर
जीवन को रौशन करती है 
ज्वाला माता बनकर 
ज्वाला माता बनकर 
ज्वाला माता बनकर 
जीवन को रौशन करती है 
ज्वाला माता बनकर 
हर युग में लिखती हो तुम 
अपनी ममता की कहानियाँ
हर युग में लिखती हो तुम 
अपनी ममता की कहानियाँ

हो शेरावालिया पहाड़ावालिया
हो भर दे झोलियाँ जो दिखती खालियाँ
कैसे बताऊँ शब्दों में मैं तेरी मेहरबानियाँ

माँ का दिल माँ का होता है
ये छोटा- बड़ा न जाने 
चाहें कितनी करें गलतियां
बच्चे तो माँ को प्यारे
बच्चे तो माँ को प्यारे
बच्चे तो माँ को प्यारे
चाहें कितनी करें गलतियां
बच्चे तो माँ को प्यारे
बालक  जो तुम्हे पुकारे तो 
सब छोड़ के आनेवालियाँ 
बालक  जो तुम्हे पुकारे तो 

सब छोड़ के आनेवालियाँ 

हो शेरावालिया  पहाड़ावालिया
हो भर दे झोलियाँ जो दिखती खालियाँ

कैसे बताऊँ शब्दों में मैं तेरी मेहरबानियाँ
कण -कण में तू ही तो बसती  माता शेरावालिया
हर एक रूप में बहुत ही जचती माता शेरावालिया
हर एक रूप में बहुत ही जचती माता शेरावालिया

हो शेरावालिया  पहाड़ावालिया
हो शेरावालिया  पहाड़ावालिया
हो शेरावालिया  पहाड़ावालिया
हो शेरावालिया  पहाड़ावालिया
हो शेरावालिया  पहाड़ावालिया








No comments:

Post a Comment